Central Motor Vehicle Rules Update 2018 – By Mehrose

Central Motor Vehicle Rules Update 2018 : अब ड्राइविंग के दौरान आपको ड्राइविंग लाइसेंस या रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी) की मूल कॉपी साथ रखने की जरूरत नहीं होगी। इसके लिए अब ई-कॉपी मान्य होगी। सड़क परिवहन एवं राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय ने केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम 1989 की धारा 139 में संशोधन कर ड्राइविंग लाइसेंस या आरसी की ई-कॉपी को भी कानूनी मान्यता दे दी है।

Central Motor Vehicle Rules Update 2018

Central Motor Vehicle Rules Update 2018 : इस संशोधन में अब डीएल, आरसी के साथ ही फिटनेस और परमिट जैसे लाइसेंस भी डिजिटल फॉर्म में मान्य होंगे। वाहन चालक अपने डीएल और आरसी को डिजिटली अपने स्मार्ट फोन में या डिजिटल लॉकर डिजिलॉकेरा एप में रख सकेंगे। डिजिलॉकेरा को केंद्र सरकार आधिकारिक रूप से संचालित करती है। इसे लोगों के अपने प्रमाण-पत्र को डिजिटली रखने के लिए ही विकसित किया गया है। केंद्र सरकार ने इस संबंध में अगस्त में ही यातायात पुलिस को सलाह जारी की थी। अब इसे कानूनी रूप दे दिया गया है।

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने 19 नवंबर को सभी राज्यों के परिवहन विभाग के लिए सर्कुलर जारी करते हुए कहा है कि अगर आम आदमी चाहे तो वह जरूरत पड़ने पर ड्राइविंग लाइसेंस, पॉल्यूशन सर्टिफिकेट समेत गाड़ी के अन्य दस्तावेज की डिजिटल कॉपी दिखा सकता है। पुलिस या अन्य किसी अधिकारी की तरफ से गाड़ी के कागजात मांगे जाते हैं, तो आम आदमी चाहे तो इन्हें डिजिटल फॉर्मेट में दिखा सकता है। इसके अलावा वाहन चालक के पास गाड़ी के फिजिकल डॉक्युमेंट्स दिखाने का भी एक विकल्प है। इस सर्कुलर में बताया गया कि पुलिस भी डिजिटल फॉर्मेट में इन डॉक्युमेंट्स को अस्वीकार नहीं करेगी। Download Latter : https://goo.gl/u6vG5V

Central Motor Vehicle Rules Update 2018

बता दें कि सड़क परिवहन मंत्रलाय ने 8 अगस्त 2018 को राज्यों के परिवहन सचिवों-परिवहन आयुक्तों, डीजीपी-एडीजीपी (ट्रैफिक) को आदेश जारी किए थे। इसमें कहा गया था कि सूचना तकनीकी कानून 2000 के मुताबिक डिजिटल लॉकर अथवा एम-परिवहन मोबाइल एप में इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में मौजूद ड्राइविंग लाइसेंस, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट व अन्य दस्तावेज कानूनी रूप से मान्य हैं। वाहन स्वामी-ड्राइवर इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में दस्तावेज पेश करता है तो ट्रैफिक पुलिस-परिवहन अधिकारी उसे कानूनी रूप से वैध व असल मानें। कार्रवाई न होने की स्थिति में आज दोबारा सरकारों को पत्र लिखना पड़ा है।

Malik Mehrose
Malik Mehrose is a young entrepreneur, author, blogger, and self-taught developer from Jammu and Kashmir. He is the founder and CEO of SHOPYLL, His startup "SHOPYLL" has emerged a new shine to e-commerce business in Jammu and Kashmir, with a vision to boost the e-commerce ecosystem and to uplift industrialization in Jammu and Kashmir.