498a के केस में बचने के कुछ तरीके – 498a ke Case me Kaise Bache

498a ke Case me Kaise Bache – आज 498a दहेज़ कानून, रेप कानून इत्यादि का बढ़ चढ़कर दुरूपयोग हो रहा है. इनसे बचना आज किसी आम इन्सान के लिए बहुत बड़ी चुनौती हो गया है.

498a ke Case me Kaise Bache

498a के केस में बचने के कुछ तरीके – 498a ke Case me Kaise Bache

1. सर्वप्रथम विवाह बहुत सोच विचार कर एक संयुक्त परिवार की लड़की से करे क्युकी सयुक्त परिवार की लड़की ही परिवार का महत्त्व समझ सकती है,और संयुक्त परिवार से आई हुयी लडकिया इस तरह के केस लगभग नहीं लगाती, ये अब तक का अखंड सत्य है.

2. दूसरी बात ये की विवाह के समय किसी भी प्रकार का चेक अपने ससुराल से न लेवे.

3. तीसरी बात ये विवाह के बाद कोई भी संपत्ति चाहे चल हो या अचल अपनी पत्नी के नाम पर न खरीदे. अन्यथा वो तलाक के साथ आपको भिखारी बनाकर जाएगी.

4. जोरू के गुलाम न बनते हुए एक मर्द की तरह अपनी किसी भी प्रकार की पूर्व अर्जित संपत्ति, बैंक बैलेंस इत्यादि का जिक्र अपनी पत्नी से बिलकुल न करे जब तक आपको यकीन न हो जाए की वो एक अच्छी महिला है. क्युकी वो ज़माने गए जब घर की चाबिया घर की बहु को लक्ष्मी समझ कर सौपी जाती थी, आज की स्त्रियों ने अपने विश्वास की स्वयं तिलांजलि दे दी है. आज घरो की चाबिया लोग अपनी बहु को देना बिलकुल भी पसंद नहीं करते.

5.विवाह के तुरंत बाद अपना विवाह का रजिस्ट्रेशन कराये जिसमे ये जिक्र हो की आपने कोई दहेज़ नहीं लिया है. अगर पत्नी कही नौकरी करती है तो उसके सबूत आप अपने पास सदैव रक्खे. और ये विचार न करे की मेरे ऊपर ये केस नहीं लगेगा क्युकी केस किसी के भी ऊपर लग सकता है.

6. अपनी पत्नी के मायके वालो को अपने परिवार में हस्तक्षेप न करने दे क्युकी मन्थरा कैकेयी के परिवार की थी और शकुनि गांधारी के परिवार से, और इन्ही लोगो के कारण राम और पांडवो की ज़िन्दगी तबाह हुयी.

7. अगर आपकी पत्नी कोई अनैतिक कार्य करती है तो उसको परिवार समाज के भय से नज़र अंदाज बिलकुल न करे, उसकी एक पुलिस रिपोर्ट अवश्य दे ताकि भविष्य में वो आपके काम आ सके. अक्सर ये होता है की पति या परिवार ये सोचते है की जाने दो घर का मामला है, लेकिन यही उनकी सबसे बड़ी भूल होती है, और एक मामूली जख्म आगे चलकर नासूर बन जाता है.

अक्सर 498a उन्ही लोगो पर लगता है जो या तो स्त्री लम्पट होते है या जिनका पौरुष मर चुका होता है. पहले खूब पत्नी की गुलामी करेंगे और बाद में कानून की आड़ में जब पत्नी लात मारती है तो अक्ल ठिकाने लग जाती है. आप सावधान रहिये

Credit : ufhnews.in

Read Also :-

Malik Mehrose
Malik Mehrose is a young entrepreneur, author, blogger, and self-taught developer from Jammu and Kashmir. He is the founder and CEO of SHOPYLL, His startup "SHOPYLL" has emerged a new shine to e-commerce business in Jammu and Kashmir, with a vision to boost the e-commerce ecosystem and to uplift industrialization in Jammu and Kashmir.